सिर्फ 1857 की क्रांति नहीं है मेरठ(Meerut) में..यह भी है…..

0
495
views
सिर्फ 1857 की क्रांति नहीं है मेरठ(Meerut) में..यह भी है.....

जिला मेरठ(Meerut) वैसे तो सन 1857 में ही बहुत प्रसिद्ध हो गया था। तब यहाँ भारत को आजाद करने के लिए क्रांति का बिगुल बजा था और सूत्रधार थे मंगल पाण्डेय। तब से अब तक लोग मेरठ को इसी नाम से जानते हैं और इतिहास में भी यही लिखा है। मेरठ यानी जहाँ 1857 की क्रांति की शुरुवात हुई थी।

अब आपको दिखातें हैं आज का मेरठ और यहाँ की प्रसिद्ध जगह :

1) भोले की झाल (Bhole ki Jhaal)

मेरठ शहर में यह सलावा की झाल नाम से जाना जाता है। यह एक डैम है और यहाँ के इलाके में बिजली यही से जाती है। इस डैम के आस पास काफी हरियाली है इसलिए यह एक पिकनिक स्थल है।

2) बासिलिका ऑफ़ लेडी ग्रसस / सरधना चर्च (Basilica of Our Lady of Graces / Sardhana Church)

मेरठ से 19 किलोमीटर दूर उत्तर-पूर्व दिशा में एक रोमन कैथोलिक चर्च है। यह चर्च बेगम समरू ने अपने पति की मृत्यु के बाद अपनी पूरी जागीर को चर्च बनवाने में दान कर दिया था। यह चर्च अपनी बनावट के लिए प्रसिद्ध है।

3) चंडी देवी मंदिर (Chandi Devi Temple)

हिन्दुओं के प्रमुख मंदिर, यहाँ हर साल नोचंदी का मेला लगता है।  यह स्थान सूरज कुंड के पास है। यहाँ हर साल बहुत बड़ा मेला लगता है।

4) गाँधी बाग (Gandhi Bagh/Company Garden)

मॉल रोड पर स्थित गाँधी बाघ को कंपनी गार्डन भी कहते हैं। यह स्थान म्यूजिकल फाउंटेन, शांत वातावरण के लिए प्रसिद्ध है। यहाँ लोग अपने परिवार के साथ पिकनिक मनाने आते हैं।

5) इकोलॉजिकल पार्क (Ecological Park)

यह पार्क औगरनाथ मंदिर के पास भारतीय सेना के द्वारा बनाया गया है। यहाँ लोग सुबह मोर्निंग वाक करने आते हैं। यहाँ का वातावरण बहुत साफ़ और फ्रेश है।

6) राजकीय स्वतंत्रता संग्राम संग्रहालय (Government Freedom Struggle Museum)

शहीद स्मारक के पास बना यह स्वतंत्रता संग्रहालय जहाँ 1857 की पहली क्रांति की यादों को संजोय है।  यहाँ पुराने ज़माने की कला, पेंटिंग्स, आदि को संभाल कर रखा गया है।

 

7)  जैन मंदिर सलावा (Jain Mandir Salwa)

सलावा गाँव में स्थित जैन मंदिर बहुत प्राचीन है। यह स्थान जैन तीर्थंकर शांतिनाथ, कुंथनाथ, अरहनाथ का जन्म स्थल है। सलावा गाँव प्रथम तीर्थंकर आदिनाथ और उनके पोते सोमप्रभा के समय से बना हुआ है।

8) जम्बूद्वीप जैन मंदिर (Jambudweep Jain Mandir)

जम्बूद्वीप हस्तिनापुर में एक बड़ा स्थल है।  यहाँ पर जैन संस्कृति के प्रमुख मंदिरों के प्रारूप और पुराने जैन मंदिर हैं। यह मंदिर ज्ञानमति माता जी के निरिक्षण में बना है। 

इस लेख का अगला भाग :

भगवान् भी यहाँ पर प्राचीन काल से वास करते आ रहें है : मेरठ(Meerut)

Watch Video :