भ्रष्टाचार की कहानी 2000 के नोट की जुबानी…

0
1609
views
2000 Note and Corruption

भ्रष्टाचार को रोकने के लिए मोदी जी और रिज़र्व बैंक के द्वारा जारी 2000 का नया नोट खासी चर्चा का विषय है। रिज़र्व बैंक का 2000 का नोट जारी करने का मकसद विमुद्रिकारण के दौरान लोगों तक अधिक से अधिक मात्रा में धन पंहुचा कर लोगों को सहायता करना था। लेकिन जैसे-जैसे लोगों के पास धन आता जा रहा है, लोगों की तृष्णा और बढ़ रही है। जहाँ पर अधिकारी पहले 500 या 1000 का नोट घुस में लेते थे, वही अब वो अधिकारी मिठाई के डिब्बे में 2000 का नोट रखवाते हैं।

देश के प्रधानमंत्री मोदी जी ने विमुद्रिकारण से लोगों का काला धन तो रखवा लिया लेकिन उससे कोई ज्यादा फायदा नहीं हुआ। भ्रष्ट लोगों ने अब दुगनी तादाद में धन इक्कट्ठा करना शुरू कर दिया है।

“एक पिंक वाला दो”

भ्रष्टाचार की कहानी

एक सुनी सुनाई कहानी बताते हैं, कुछ ही दिन पहले एक मित्र अपना ड्राइविंग लाइसेंस बनवाने र.टी.ओ. ऑफिस गए। वहाँ पर जब उन्होंने बाबु को लाइसेंस के लिए आवेदन पत्र दिया तो बाबु बोले की 2 महीने बाद आना। मित्र ने कहा कि थोड़ा जल्दी प्रोसेस करा दीजिये तो बाबु बोले एक पिंक वाला दो, जल्दी हो जायेगा। मित्र को पहले तो कुछ समझ नहीं आया, फिर समझ आया की 2000 का नोट पिंक है।

2000 Rs note and Corruption

ऐसे ही एक और व्यक्ति की कहानी, वो रोज़ सरकारी दफ्तरों के चक्कर लगाते है और जो चपरासी पहले उनकी फाइल पास करने के 1000 का नोट माँगता था वही अब 2000 का नोट माँगता है।

पुलिस वाले जहाँ पासपोर्ट वेरिफिकेशन के लिए 1000 का नोट लेते थे अब 2000 का नोट लेना शुरू कर दिया है। सरकारी दफ्तरों में यह एक आम बात होती जा रही है। और लोगों की मज़बूरी है कि उन्हें न चाहते हुए भी भ्रष्ट बनना पड़ता है वरना रोज़ इन सरकारी दफ्तरों के चक्कर लगाओ।

2000 Rs Note And Corruption

पिंक वाला, य पिंकी आजकल मिठाई के डिब्बो में भर भर कर दिया जाना शूरू हो गया है। पहले जो बाबु 500 या 1000 से संतुष्ट हो जाते थे आजकल वही लोग 2000 के पिंक वाले नोट से ही मानते हैं।

क्या यही सरकार अपने ही अफसरों के खिलाफ कुछ बड़ा कदम उठाना चाहती है? क्या सब चीज़ों को ऑनलाइन करना इन समस्याओं का हल है?

पढ़िये हमारी 2000 के नोट से जुडी और कहानी 

We have this conditon right now

Rs 2000 Note and Corruption

“भ्रष्टाचार का प्यार 2000”